Homeगेम चेंजर्सउपज की बर्बादी को रोकने के लिए महिला वैज्ञानिकों ने बनाया अनोखा...

उपज की बर्बादी को रोकने के लिए महिला वैज्ञानिकों ने बनाया अनोखा कोल्ड स्टोरेज

spot_img

नई दिल्ली ( गणतंत्र भारत के लिए आशीष मिश्र):

भारत जैसे देश में जहां भीषण गरीबी के चलते जनसंख्या के एक वर्ग को खाने के लाले पड़े रहते हैं वहीं हर साल देश में कई मीट्रिक टन खाद्य पदार्थ सड़ कर बर्बाद हो जाता है। इसका बड़ा कारण देश में कोल्ड स्टोरेज की पर्याप्त सुविधाओं का अभाव है। इसी समस्या से निपटने के लिए भारतीय कृषि अनुसंधान से जुड़ी महिला वैज्ञानिकों ने ऐसे कोल्ड स्टोरेज को विकसित किया है जो सौर ऊर्जा से चलता है। इसे ‘पूसा फार्म सनफ्रिज’ रेफ्रिजरेशन सिस्टम के नाम से जाना जाता है। इसके चलते किसान जल्दी खराब होने वाली अपनी उपज को लंबे समय तक सुरक्षित रख सकते हैं और बेहतर कीमत मिलने पर उसे बाजार में बेच सकते हैं।

कौन-कौन सी सुविधाओं से लैस है कोल्ड स्टोरेज सिस्टम

100 प्रतिशत सौर ऊर्जा से चलने वाले ऐसे कोल्ड स्टोरेज में 2 टन तक सब्जी और फल रखने की क्षमता है। कोल्ड स्टोरेज का तापमान दिन में 3 से 4 डिग्री तथा रात में 8 से 12 डिग्री तक रखा जा सकता है। इस तापमान को स्थिर बनाए रखने में मदद करता है कोल्ड स्टोरेज का समरसेविल सिस्टम जो 100 लीटर तक जमीन से पानी खींचने की क्षमता रखता है। शाम को इसे पानी की जरूरत नहीं होती।

कोल्ड स्टोरेज की ये प्रणाली बाजरा और मक्के की फसल के संरक्षण में भी काफी उपयोगी है। इस पूरी प्रणाली में 5 किलोवाट की सौर ऊर्जा का यंत्र लगा हुआ है। इसमें 3 किलो वाट की मदद से डेढ़ टन का एसी चलता है। 10×10 के क्षेत्रफल वाले स्थान में ये काफी प्रभावी होता है और इसमें फल और सब्जियों को संरक्षित किया जा सकता है।

5 साल लगे इस कोल्ड स्टोरेज सिस्टम को बनाने में  

‘पूसा फार्म सनफ्रिज’ रेफ्रिजरेशन सिस्टम को तैयार करने में करीब 5 साल की मेहनत लगी है। इसको भारतीय कृषि अनुसंधान संस्थान की डायरेक्टर संगीता चोपड़ा के साथ पांच अन्य महिला वैज्ञानिक और अमेरिका की मिशीगन यूनिवर्सिटी ने मिलकर तैयार किया है। कृषि विज्ञान मेले के दौरान इस रेफ्रिजरेशन सिस्टम की प्रदर्शित किया गया। इसको बनाने के पीछे मकसद आत्मनिर्भर भारत में किसानों को समृद्धि और खुशहाल बनाने का प्रयास है। विभिन्न आंकड़ों को देखा जाए तो देश में करीब 10 से 30 प्रतिशत तक फल और सब्जियां मंडी पहुंचने से पहले ही खराब हो जाती है और इसका सीधा नुकसान किसानों को झेलना पड़ता है।

क्या है कीमत है और कहां से मिलेगा

इस प्रणाली की कीमत करीब 5.5 लाख़ है अभी दिल्ली स्थित कृषि अनुसंधान संस्थान के मुख्यालय को छोड़कर सिर्फ दो ही जगह पूसा फार्म सनफ्रिज सिस्टम लगाया गया है। एक राजस्थान के अजमेर जिले में और दूसरा हरियाणा के पानीपत जिले में लगाया गया है। जयपुर की एसएनडी प्रोजेक्ट लिमिटेड कंपनी में इस प्रणाली का उत्पादन किया जा रहा है और इसे वहीं से खरीदा भी जा सकता है।

फोटो सौजन्य- सोशल मीडिय़ा

Print Friendly, PDF & Email
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -spot_img

Most Popular

- Advertisment -spot_img

Recent Comments