Homeपरिदृश्यटॉप स्टोरीअमित शाह क्यों पहुंचे कश्मीर ? फोकस ठोस रणनीति बनाने पर

अमित शाह क्यों पहुंचे कश्मीर ? फोकस ठोस रणनीति बनाने पर

spot_img

श्रीनगर (गणतंत्र भारत के लिए न्यूज़ डेस्क / एजेंसियां ) : 

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह जम्मू –कश्मीर के तीन दिनों के दौरे पर जम्मू पहुंच गए हैं। अमित शाह घाटी और अंतर्राष्ट्रीय सीमा पर सुरक्षा हालात का जायजा लेंगे। इसके अलावा उन्हें जम्मू कश्मीर में राजनीतिक माहौल के आंकलन का जिम्मा भी सौंपा गया है।

माना जा रहा है कि कश्मीर में हालिया स्थिति को देखते हुए वहां सुरक्षा की ठोस रणनीति पर चर्चा होगी। सेना प्रमुख जनरल नरवाणे और सीमा सुरक्षा बल के महानिदेशक के अलावा केंद्र सरकार के कई बड़े अफसरों ने हाल ही में घाटी का दौरा किया है। नरेंद्र मोदी सरकार ने अपने कई मंत्रियों को कश्मीर में राजनीतिक हालात का जायजा लेने और वहां के लिए विकास योजनाओं का प्रारुप तय करने के काम में लगाया है।

राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के सरसंघचालक मोहन भागवत और कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने भी हाल ही में जम्मू-कश्मीर की य़ात्रा की थी। पिछले दिनों प्रधानमंत्री ने स्वयं कश्मीर के नेताओं को वहां के हालात पर चर्चा और राजनीतिक प्रक्रिया शुरू करने को लेकर मंथन के सिलसिले में दिल्ली बुलाया था। घाटी के लगभग सभी प्रमुख नेता और राजनीतिक पार्टियों के प्रतिनिधि इस बैठक में शामिल हुए थे।

किन मसलों पर रहेगा फोकस

गृह मंत्री की यात्रा के दौरान घाटी में मौजूदा सुरक्षा हालात को देखते हुए ठोस रणनीति बनाने पर जोर रहेगा। इसके अलावा, अफगानिस्तान में तालिबान के आने के बाद कश्मीर के हालात में किस तरह के बदलाव हो सकते हैं और उनसे निपटा कैसे जाएगा ये विषय भी चर्चा का अहम मुद्दा होगा। एक और मुद्दा, कश्मीर में पुलिस, अर्धसैनिक बलों और सेना के बीच तालमेल और खुफिया तंत्र की मजबूती का रहेगा। कुल मिला कर शाह की यात्रा का मकसद राज्य के हालात के आंकलन के अलावा पाकिस्तान को भी सीमा पार की हरकतों के मद्देनजर एक कड़ा संदेश देना है।

इंटरनेट बंद और दोपहिया वाहनों का घरपकड़

इस बीच, कश्मीर के कुछ इलाकों में इंटरनेट सेवा को बंद कर दिया गया है और बड़ी संख्या में दोपहिया वाहनों की जब्ती की गई है। हालांकि पुलिस का कहना है कि ऐसा आंतकवादरोधी उपायों के चलते किया जा रहा है और इसका गृहमंत्री के दौरे से कोई लेना देना नहीं है।

कश्मीर जोन के पुलिस महानिरीक्षक विजय कुमार ने एक ट्वीट में कहा कि, कुछ बाइक जब्त करना और कुछ टॉवरों का इंटरनेट बंद करना पूरी तरह से आतंकी हिंसा से संबंधित है। इसका माननीय गृह मंत्री के दौरे से कोई लेना-देना नहीं है। दो दिन पहले एक दर्जन टॉवरों का इंटरनेट बंद कर दिया गया था और ये अधिकांश उन इलाकों में किया गया है, जहां पिछले सप्ताह आतंकवादियों ने गैर-स्थानीय लोगों की हत्या कर दी थी।

इसके साथ ही, पुलिस ने दोपहिया वाहनों के कागजों की जांच के लिए सघन अभियान चलाया है। कई लोगों ने आरोप लगाया है कि उनके दोपहिया वाहनों को पुलिस ने दस्तावेजों की जांच किए बिना ही जब्त कर लिया और उन्हें 26 अक्टूबर के बाद अपने वाहन लेने के लिए कहा गया है

कुछ अखबारों में छपी रिपोर्ट के मुताबिक, गृह मंत्री अमित शाह जम्मू कश्मीर के तीन दिवसीय दौरे के लिए शनिवार को श्रीनगर पहुंचेंगे और सुरक्षा समीक्षा बैठकों की अध्यक्षता करेंगे। इस केंद्रशासित प्रदेश में आतंकियों द्वारा किए गए हमलों में इसी महीने 11 नागरिक मारे गए थे। यात्रा के दौरान केंद्रीय गृह मंत्री, पंचायत सदस्यों के साथ-साथ राजनीतिक कार्यकर्ताओं को भी संबोधित करेंगे।

फोटो सौजन्य-सोशल मीडिया

Print Friendly, PDF & Email
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -spot_img

Most Popular

- Advertisment -spot_img

Recent Comments