Homeहमारी धऱतीऊर्जाकोच्चि के बाद पुदुच्चेरी एयरपोर्ट भी सोलर एनर्जी से चलने वाला हवाई...

कोच्चि के बाद पुदुच्चेरी एयरपोर्ट भी सोलर एनर्जी से चलने वाला हवाई अड्डा बना

spot_img

न्यूज़ डेस्क : नई दिल्ली ( गणतंत्र भारत के लिए पीयूष धर द्विवेदी ):

 दक्षिण भारत में पुदुच्चेरी हवाई अड्डा भी पूरी तरह से सौर ऊर्जा से चलने वाला एयरपोर्ट बन गया है।  सौर शक्ति से चलने वाला ये पहला एयरपोर्ट है जो भारतीय विमान पत्तन यानी एयरपोर्ट अथॉरिटी ऑफ इंडिया का है। 2 अक्टूबर 2020 से ये हवाई अड्डा पूरी तरह से सौर ऊर्जा से चलने लगा है। इससे पहले, कोच्चि अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा दुनिया का पहला ऐसा हवाई अड्डा बना था जो  पूरी तरह से सौर ऊर्जा से चल रहा है। देश के दूसरे हवाई अड्डों को भी सौर ऊर्जा से चलाने  के प्रयास किए जा रहे हैं। सौर ऊर्जा की बदौलत भारत के कुछ दक्षिणी राज्य दुनिया में तेज आर्थिक विकास कर रहे हैं।

कोच्चि हवाई अड्डे पर हजारों की संख्या में लगे सोलर पैनल बिजली पैदा करने के साथ-साथ सरकारी पावर ग्रिड्स को भी ऊर्जा प्रदान करने में मदद कर रहे हैं। जर्मन कम्पनी बोश को हवाई अड्डे की खाली पड़ी जगह पर एक विशाल सोलर सैल प्लांट लगाने के लिए कहा गया था जो 2016 में पूरी तरह बनकर तैयार हो गया।  

कोच्चि हवाई अड्डा एक दिन में 48000 से 50000 किलोवाट तक बिजली का उपयोग करता है और 45 एकड़ एरिया में फैले हुए इस सोलर प्लांट से इस आवश्यकता को आसानी से पूरा भी किया जा रहा है। कि कोचीन अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा भारत के 7 सबसे व्यस्त रहने वाले हवाई अड्डों में से एक है। कोचीन की तर्ज पर कोलकाता अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा भी 70 एकड़ के क्षेत्र में इस तरह का ही सोलर प्लांट लगाने का विचार कर रहा है।  इस प्लांट में सोलर पैनल लगाने के काम में 62 करोड़ रुपए का खर्च आया जिसका भुगतान इस प्लांट से ही पैदा की गई बिजली को बेच कर किया जाएगा।

सौर ऊर्जा क्षेत्र में पहल के लिए प्रधानमंत्री मोदी की तारीफ


संयुक्त राष्ट्र के पर्यावरण प्रमुख ने सौर ऊर्जा प्रोत्साहन के लिए भारत की तारीफ की है। अपनी ऊर्जा जरूरतों को सौर ऊर्जा से पूरा करने और प्लास्टिक के इस्तेमाल पर रोक के भारत के प्रयासों की सराहना करते हुए संयुक्त राष्ट्र पर्यावरण कार्यक्रम (यूएनईपी) के कार्यकारी निदेशक एरिक सोलहिम ने कहा कि वर्ष 2017 मानव इतिहास में पहला वर्ष था जब दुनिया में सूर्य के माध्यम से उत्पादित बिजली तेल, गैस और कोयले से कुल मिला कर उत्पादित बिजली से अधिक रही। इसके पहले एरिक सोलहिम ने प्रधानमंत्री मोदी की तारीफ करते हुए उन्हें जलवायु परिवर्तन से निपटने में अग्रदूत बताया। संयुक्त राष्ट्र पर्यावरण प्रमुख ने कहा था कि जलवायु परिवर्तन से निपटने की दिशा में प्रधानमंत्री मोदी एक वैश्विक नेता है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी ने जलवायु परिवर्तन के खिलाफ दृढ़ कार्रवाई कर भारत को वैश्विक रूप से अग्रणी देशों में से एक बना दिया है।

फोटो – सौजन्य सोशल मीडिया

Print Friendly, PDF & Email
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -spot_img

Most Popular

- Advertisment -spot_img

Recent Comments