Homeग्राउंड जीरोजब जानलेवा बन गए फिल्मों के सेट...भारत में भी लंबी है फेहरिस्त...

जब जानलेवा बन गए फिल्मों के सेट…भारत में भी लंबी है फेहरिस्त !

spot_img

नई दिल्ली (गणतंत्र भारत के लिए शोध डेस्क) :  फिल्मों में स्टंट, फाइट सीन और सांसों को थमा देने वाले सीन देखने में भले रोमांच पैदा करते हों लेकिन उन दृश्यों के पीछे कहानी भी कम रोमांचक नहीं होती। हमारे देश में दक्षिण भारत की फिल्मों के स्टंट अब बॉलीवुड में जमकर बिक रहे हैं। सिंघम, बाहुबली और तमाम दूसरी फिल्में अपने स्टंट और भव्य दृश्यांकन के लिए विख्यात हुईं। आज हम उन फिल्मों का जिक्र करने जा रहे हैं जिनके सेट पर ऐसे हादसे हुए कि फिल्म उन्हीं वजहों से ज्यादा जानी और पहचानी गई। भारत में भी कई फिल्में ऐसी रहीं जो इसी कारण ज्यादा चर्चित रहीं।

न्यू मैक्सिको में फिल्म रस्ट की शूटिंग चल रही थी। इसी दौरान एक सीन में अभिनेता एलेक बॉल्डविन ने प्रॉप गन से एक फायर किया जो मिसफायर हो गया। हादसा फिल्म के सिनेमेटोग्राफर हेलीना हचिंस के लिए प्राणघातक साबित हुआ जबकि फिल्म के निर्देशक जोल सूजा इसमें बुरी तरह से घायल हो गए।  गोल्डेन ग्लोब पुरस्कार विजेता बॉल्डविन इस फिल्म के प्रोड्यूसर भी हैं।

फिल्मों का इतिहास देखा जाए भारत के साथ दुनिया में फिल्मों के सेट पर कई बार ऐसे हादसे हुए हैं जिन्होंने फिल्म की दशा और दिशा दोनों पर असर डाला।

अंग्रेजी अखबार इंडियन एक्सप्रेस ने इस बारे में एक रिपोर्ट छापी है जो बालीवुड के साथ हालीवुड की फिल्मों के सेट पर हुए ऐसे बड़े हादसों का उल्लेख करती है।

हॉलीवुड की फिल्में

ट्वाइलाइट जोन : द मूवी (1982 ) – कैलीफोर्निया के इंडियन ड्यून इलाके में इस फिल्म की शूटिंग के दौरान फिल्म के अभिनेता विक मॉरो और दो चाइल्ड आर्टिस्टों की मौत हो गई। फिल्म में दृश्य था एक हेलीकॉप्टर से अभिनेता और दो बाल कलाकरों का पीछा करने का। इस दौरान हेलीकॉप्टर बहुत नीची उड़ान भर रहा था। अचानक उसमें तकनीकी खराबी आ गई। हेलीकॉप्टर विक और दोनों बाल कलाकारों के ऊपर ही गिर पड़ा। उन तीनों की मौके पर ही मौत हो गई। इस हादसे के कारण फिल्म निर्माताओं को करीब एक दशक तक कानूनी मामलों का सामना करना पड़ा और इसके बाद फिल्मों की शूटिंग के लिए नए सुरक्षा मानकों का निर्धारण किया गया।

रॉकी 4 :  (1984) फिल्म के क्लाइमेक्स का सीन था। फिल्म में हीरो रॉकी बालबोआ (सिलवेस्टर स्टैलोन) और खलनायक इवान ड्रैगो ( डॉल्फ लूंडेग्रेन) के बीच फाइट सीन था। सिल्वेस्टर स्टैलोन ने खलनायक डॉल्फ से सीन को प्रभावी बनाने के लिए घूंसे को थोड़ा तेज मारने का अनुरोध किया। उसके बाद स्टैलोन को जो घूसां पड़ा तो उन्हें 9-10 दिनों तक आईसीयू में रहना पड़ा। उनकी ढोढ़ी से लेकर सीने की पसलियों तक में काफी चोट आई। स्टैलोन को 2010 की फिल्म एक्पेंडेबल में भी सेट पर हादसे का शिकार होना पड़ा था।  

टॉप गन :  (1086) स्टंट पायलट आर्ट शॉल इस फिल्म की शूटिंग के दौरान पिट्स- एस-2 कैमरा प्लेन से स्टंट कर रहे थे। इसी दौरान वे हाई एल्टीट्यूड पर अपने प्लेन पर नियंत्रण रख पाने में नाकाम रहे। उनका प्लेन प्रशांत महासागर में गिर पड़ा। इस विमान का आज तक कोई पता नहीं चला है। टॉम क्रूज अभिनीत इस फिल्म को शॉल को ही समर्पित कर दिया गया।

द क्रो : ( 1993)  फिल्म की शूटिंग के दौरान ब्रूस ली के बेटे ब्रैंडन ली की मौत हो गई। हुआ यूं कि ब्रैंडन को एक कमरे में घुसते समय गोली मारी जानी थी लेकिन गलती से नकली के बदले ए .44 कैलीबर  की असली पिस्तौल से फायर कर दिया गया। ली के पेट में गोली लगी और उन्होंने 6 घंटे की सर्जरी के बाद दम तोड़ दिया। अमेरिका में इस मामले ने काफी तूल पकड़ा। मामले की जांच के बाद पाया गया कि ये हादसा फिल्म के क्रू की लापरवाही की वजह से हुआ था।

किल बिल : (2003) – अभिनेत्री उमा थर्नमैन एक एक्शन सीन में हाईवे पर गाड़ी दौड़ाते हुए चक्कर खा गई और अपने घुटने तुड़वा बैठीं। बाद में पता चला कि क्रू ने उस रास्ते की छानबीन नहीं की थी जिस पर गाड़ी को भगाना था। उस रास्ते में कई मोड़ थे जो खतरनाक थे और हादसा उसी की देन था।

द डार्क नाइट : ( 2008) – फिल्म के लिए एक स्टंट सीन का रिहर्सल करते हुए   स्टंटमैन कॉनवे विकलाइफ एक हादसे का शिकार हो गए। वे एक जोकर का किरदार निभा रहे थे और उन्हें इस सीक्वेंस में कैमरे के साथ कार से बाहर लटकना था। इसी दौरान उनकी कार बेकाबू हो गई और वो एक पेड़ से जा टकराई। विकलाइफ की मौके पर ही मौत हो गई जबकि हादसे में कार का ड्राइवर बच गया।

बॉलीवुड फिल्में

कुली : (1983)  फिल्म के एक सीन में अभिनेता अमिताभ बच्चन और खलनायक पुनीत इस्सर के बीच फाइट सीक्वेंस था। इसी दौरान अमिताभ बच्चन को सीन करते हुए पेट में घातक चोट लग गई। अमिताभ को बेंगलुरू से तुरंत मुंबई लाया गया। उन्हें करीब 200 बोतल खून चढ़ा। पूरे देश में मातम जैसा माहैल छा गया और प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी, अपने सारे कार्यक्रम रद्द करके मुंबई अमिताभ बच्चन का हाल जानने पहुंच गई। कई महीनों के इलाज के बाद अमिताभ अस्पताल से बाहर निकल पाए। फिल्म निर्देशक मनमोहन देसाई की इस फिल्म को अपार सफलता मिली। उन्होंने फाइट सीन के असली दृश्यों को फिल्म में एडजस्ट करने के लिए फिल्म की पटकथा में भी बदलाव कर दिया। 

स्वोर्ड ऑफ टीपू सुल्तान : ( 1989) –

मैसूरू में टीवी सीरियल स्वोर्ड ऑफ टीपू सुल्तान के सेट पर आग लगने से हुआ हादसा शायद मनोरंजन जगत का सबसे बड़ा हादसा था। इस हादसे में अभिनेता संजय खान बुरी तरह से जल गए थे और उन्हें 72 सर्जरी झेलनी पड़ी और एक साल से ज्यादा अस्पताल में गुजारना पड़ा। सबसे दुखद बात तो ये रही कि इस हादसे में 62 लोगों की मौत हो गई। जांच में पाया गया कि हादसे की वजह बिजली वायरिंग में घटिया सामग्री का इस्तेमाल पाई गई। इसके अलावा सेट पर सुरक्षा उपायों की व्यवस्था के अभाव के कारण बहुत से लोगों की जान चली गई।      

खाक़ी : ( 2004) – फिल्म की शूटिंग के दौरान अभिनेत्री ऐश्वर्या राय अपना पैर तुड़वा बैठी थीं। राजकुमार संतोषी की इस फिल्म में ऐश्वर्या की तरफ आने वाली जीप बेकाबू हो गई और उन्हें धक्का मारते हुए आगे जाकर दुर्घटनाग्रस्त हो गई। ऐश्वर्या झाड़ी में जाकर गिरी और उनके बाएं पांव में फ्रैक्चर हो गया।    

इंडियन 2  :  कमल हासन की ये फिल्म इस वक्त पोस्ट प्रोडक्शन के दौर में है। चेन्नै में इस फिल्म की शूटिंग के दौरान क्रेन गिरने से हुए हादसे में तीन टेक्नीशियनों की मौत हो गई थी जबकि 9 दूसरे लोग घायल हो गए थे। फिल्म अभिनेता कमल हासन, अभिनेत्री काजल अग्रवाल और निर्देशक शंकर इस हादसे मे बाल-बाल बच गए। तीनों मृतक टेक्नीशियन फिल्म के असिस्टेंट डायरेक्टर थे।

फोटो सौजन्य- सोशल मीडिया      

Print Friendly, PDF & Email
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -spot_img

Most Popular

- Advertisment -spot_img

Recent Comments